एलर्जी-जल्दी पहचान से इलाज़ सम्भव

इस संसार में प्रकृति ने प्रत्येक जीव को बाहरी तत्वों को सहन करने की ख़ास ताकत प्रदान की है| इस प्रक्रिया में मनुष्य भी अपवाद नहीं रहा है और प्रकृति या कुदरत द्वारा उसे भी बाह्य तत्वों के प्रभाव को झेलने की शक्ति दी गई है|  फिर भी कई बार अनेक कारणों से कुछ बुरे तत्व मनुष्य के शरीर के भीतर पहुंचकर मनुष्य के लिए विभिन्न परेशानी उत्पन्न करने की कोशिश करते है जिससे मनुष्य के ख़ासा प्रभावित होने की संभावना होती है| तब मनुष्य का शरीर के आंतरिक तत्व और प्रकृति द्वारा दी गई शक्ति हलचल में आकर उस बुरे तत्व को रोकने की कोशिश करते है| इस तरह की प्रक्रिया एलर्जी की उत्पत्ति का कारण बनती है|
एलर्जी

एलर्जी क्या है? What is allergy in hindi

आमतौर पर एलर्जी कोई बीमारी नहीं लगती, लेकिन यह सही है की ज्यादातर लोगो के लिए यह एक बहुत बड़ी परेशानी बन चुकी है| एक बार एलर्जी हो जाने पर इससे कोई भी परेशान हो सकता है, जल्दी से पहचान होने पर इसका इलाज़ सम्भव है| हर व्यक्ति के शरीर की अलग-अलग क्षमता है, इसी प्रकार सभी की प्रतिरक्षा तंत्र की क्षमता भी अलग अलग होती है| इसी के अनुरूप ही व्यक्ति बाहरी चीजों के साथ तालमेल बिठा पाता है| इसी में कुछ ऐसे तत्व होते है जिनके साथ शरीर  तालमेल नहीं बिठा पाता है| इन तत्वों को एलर्जेट कहा जाता है और यही एलर्जेट इस बीमारी का कारण बनता है| अब इस बीमारी की पहचान की प्रक्रिया काफी आसन हो गई है| एलर्जी के रोगी को लापरवाही बिलकुल भी नही दिखानी चाहिए|

एलर्जी के लक्षण

एलर्जी एक ऐसी बीमारी है जिसका कारण आमतौर पर समझ नही आता परन्तु कुछ ऐसे लक्षण है जिसके आधार पर यह पता लगाया जा सकता है की व्यक्ति एलर्जी ग्रस्त है| Symptoms of Allergy In Hindi.
  • शरीर पर खुजली
  • चमड़ी का लाल होना
  • लाल दाने होना
  • शरीर के दानों वाली जगहों पर सुजन होना
  • एलर्जी होने से एग्जिमा नामक बीमारी भी हो सकती है, जिससे जोर से खुजली होना या उस जगह पर पानी का रिसाव होने लगता है|
  • कुछ लोगो में एलर्जी से अस्थमा भी हो सकती है| अस्थमा में रोगी को सांस लेने में परेशानी आती है, फेफड़ो में सुजन होना व जलन हो सकती है|
  • छींक आना, नाक बंद होना, जुकाम होना
  • गले में तेज जलन एवं दर्द
  • पेट दर्द
  • चेहरा, होठ, आँखों में सुजन
  • जी मितलाना एवं डायरिया
  • खाने में तकलीफ

एलर्जी का कारण

यह बिमारी आसपास के वातावरण या माहौल में कई कारणों से हो सकती है जैसे
  • पेड़, पौधे, धूल, मिटटी, पालतू जानवर, दवाएं एवं खाद्य वस्तुएं आदि से|
  • एक परिवार के विभिन्न सदस्यों, महिला, पुरुष, बच्चे या वृद्ध को विभिन्न वस्तुओं से यह बीमारी हो सकती है|
  • कुछ लोगों में फूलों को छूने से भी यह रोग हो सकती है|
  • दूध, दही, मांस, मछली का सेवन से भी कुछ लोगों में यह हो सकती है|
  • पोलीथिन एवं नायलोन का प्रयोग से भी इसके होने की सम्भावना है
  • सौंदर्य प्रसाधन का उपयोग से भी यह हो सकती है|
  • कोबाल्ट, निक्कल एवं क्रोमियम इत्यादि जैसे रसायन भी इसका कारण हो सकते है
  • कुछ दवा का सेवन भी इस रोग का कारण हो सकता है|

एलर्जी

एलर्जी का इलाज़

इस बीमारी की पहचान समय पर हो जाने पर इसका इलाज़ सम्भव है| पूर्व में एलर्जी की कारणों की पहचान मुश्किलों से भरा होता था| सुई के माध्यम से बाजू पर 98 निशान लगाए जाते थे| वर्तमान में इस बीमारी की पहचान की प्रक्रिया आसान हो गई है अब ब्लड टेस्ट से भी इसका पता लगाया जा सकता है| एलर्जी का कारण क्या है यह पता लगाने के बाद इलाज़ सरल हो जाता है तथा उसी के अनुरूप व्यक्ति को दवा दी जाती है| इसके मरीज को कुछ समय दवा खानी होती है जिससे मरीज के शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत हो जाती है और रोगी की एलर्जी की समस्या भी ठीक हो जाती है| एलर्जी की समस्या में लापरवाही बिलकुल भी नहीं करनी चाहिए|
   कई प्रकार की एलर्जी का इलाज़ दवा से हो सकता है| जाँच करने पर एलर्जी किस प्रकार की है, यह पता लग जाता है एवं उसके अनुरूप दवा देने से बीमारी का इलाज़ हो सकता है|
प्रिय विजिटर इस तरह आपने अवेयर माय इंडिया के हिंदी आर्टिकल एलर्जी ’ को पढ़ा| अगर आपका इससे संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव हो तो कमेंट जरुर करें| आशा है की हमारे अन्य आर्टिकल की तरह ही आप इस आर्टिकल से भी लाभान्वित होंगे| हम इस बात को महसूस कर रहे है की आपके और बेहतर सुविधा के लिए इस साईट में कई सुधार किया जाना अपेक्षित है| आप सरीखे विजिटर के स्नेह और सुझाव से हम इस साईट में निरंतर सुधार कर रहे है और हमें विश्वास है की आगे के समयों में हम आपको और भी बेहतर सुविधा दे पाएंगें| लेकिन इस हेतु आपसे अनुरोध है की आप हमारे कांटेक्ट अस पेज के माध्यम से अपना विचार एवं अपना बहुमूल्य सुझाव हम तक जरुर प्रेषित करें| इस आर्टिकल को पढ़ने तथा अवेयर माय इंडिया साईट पर विजिट करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद|
यह भी पढ़ें-

Leave a Reply

Your email address will not be published.