एडमिनिस्ट्रेशन क्या है या प्रशासन किसे कहते है?

एडमिनिस्ट्रेशन (administration) मूलतः एड (ad) उपसर्ग तथा लैटिन धातु मिनिस्टर (minister) से मिलकर बना है जबकि प्रशासन संस्कृत के ‘प्र’ उपसर्ग ‘शास्’ धातु से बना है| इसका अर्थ है प्रकृष्ट या उत्कृष्ट रूप से शासन करना| वैदिक युग में जब किसी बड़े पैमाने पर राज्य में यज्ञ का आयोजन किया जाता था तो उसके कार्य के संचालन हेतु प्रशासक की आवश्यकता होती थी| प्रशासक का कार्य पुरोहित करते थे| ये पुरोहित प्रशास्ता कहलाये| यही प्रशस्ता आगे चलकर प्रशासक कहलाये| हम इस पोस्ट में प्रशासन या एडमिनिस्ट्रेशन – administration के बारे में बात करेंगें|

एडमिनिस्ट्रेशन क्या है या प्रशासन किसे कहते है

अगर आप जानना चाहते है की प्रशासन क्या है? या प्रशासन किसे कहते है? या What is Administration in hindi? या प्रशासन के लक्षण क्या होते है? तो इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक पूरा पढ़ें| इस पोस्ट में हम प्रशासन सम्बन्धी दृष्टिकोण- एकीकृत दृष्टिकोण Integral Approaches और प्रबंधात्मक दृष्टिकोण Managerial Approaches की भी बात करेंगे| आइये आर्टिकल की शरुआत करते है|

यह भी पढ़ें-

एडमिनिस्ट्रेशन क्या है या प्रशासन किसे कहते है?

What is Administration in hindi.

प्रशासन संस्कृत के ‘प्र’ उपसर्ग ‘शास्’ धातु से बना है| इसका अर्थ है प्रकृष्ट या उत्कृष्ट रूप से शासन करना| एडमिनिस्ट्रेशन (administration) मूलतः एड (ad) उपसर्ग तथा लैटिन धातु मिनिस्टर (minister) से मिलकर बना है| इसका अर्थ होता है- दूसरों के हित में कार्य करना| 16 वीं शताब्दी में इसका प्रयोग ‘प्रबन्ध’ के रूप में होने लगा| शब्दकोश में प्रशासन का अर्थ होता है- ‘कार्यों का प्रबंध करना’ या ‘लोगों की देखभाल करना|’

एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका में प्रशासन शब्द का व्याख्या इस प्रकार है- ‘यह कार्यों का प्रबंध करने अथवा उसे पूर्ण करने की एक प्रक्रिया है|’ प्रशासन लोगों की सहयोग से किसी निश्चित उद्देश्य की पूर्ति हेतु की जाने वाली प्रक्रिया है|

यह भी पढ़ें-

विभिन्न विद्वानों द्वारा एडमिनिस्ट्रेशन की परिभाषा इस प्रकार दी गई है-

साइमन के अनुसार- अपने व्यापक रूप में एडमिनिस्ट्रेशन की व्याख्या उन समस्त सामूहिक क्रियाओं से की जा सकती है जो सामान्य लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सहयोगात्मक रूप में प्रस्तुत की जाती है|

मार्क्स के अनुसार- एडमिनिस्ट्रेशन चैतन्य उद्देश्य की प्राप्ति के लिए निश्चयात्मक क्रिया है| यह उन वस्तुओं के लिए एक संगठित प्रयत्न तथा साधनों का निश्चित प्रयोग है जिनको की हम कार्यान्वित करना चाहते है|

पिफनर के अनुसार- मनुष्य तथा भौतिक साधनो का संगठन एवं नियंत्रण ही एडमिनिस्ट्रेशन है|

नीग्रो के अनुसार- एडमिनिस्ट्रेशन लक्ष्य की प्राप्ति के लिए मनुष्य तथा सामग्री दोनों का संगठन है|

व्हाईट के अनुसार-एडमिनिस्ट्रेशन किसी विशेष उद्देश्य की प्राप्ति के लिए बहुत से व्यक्तियों के संबंध में निर्देश, नियंत्रण तथा समन्वीकरण की कला है|

लूथर गुलिक के अनुसार- एडमिनिस्ट्रेशन का संबंध कार्यों को संपन्न कराने से है| जिससे की निर्धारित लक्ष्य पुरे हो सकें|

विभिन्न विद्वानों द्वारा एडमिनिस्ट्रेशन के संबंध में दी गई उपर्युक्त परिभाषा से हमें प्रशासन के निम्नलिखित लक्षण का पता चलता है-

प्रशासन के लक्षण


विभिन्न विद्वानों द्वारा दी गई परिभाषा से हमें एडमिनिस्ट्रेशन के निम्नलिखित लक्षण प्राप्त होते है, जो की इस प्रकार है-

  1. इसमें सभी व्यक्ति सहयोग की भावना से कार्य करते है|
  2. इसका उद्देश्य, इसमें भाग लेने वाले व्यक्तियों के व्यक्तिगत उद्देश्य से भिन्न है|
  3. एडमिनिस्ट्रेशन संगठित होकर कार्य करता है| संगठन इसके उद्देश्य पूर्ति का प्रमाण है| इसके बिना उद्देश्य की प्राप्ति नहीं की जा सकती|
  4. एडमिनिस्ट्रेशन में कार्यरत व्यक्ति के पास प्राधिकार होना चाहिए, इसी के आधार पर वह कार्य में दूसरों से सहयोग लेता है|
  5. प्रशासन का प्रयोग विशाल व्यापक संगठनों के लिए किया जाता है|

यह भी पढ़ें-

प्रशासन सम्बन्धी दृष्टिकोण


Approaches to the Administration in hindi.  Administration विभिन्न उद्देश्य की पूर्ति के लिए व्यक्तियों के सहयोग से किया जाने वाला कार्य है| इसको किस Administration के साथ रखा जाये इसके दो दृष्टिकोण है- एकीकृत दृष्टिकोण Integral approaches और प्रबंधात्मक दृष्टिकोण Managerial Approaches.

एकीकृत दृष्टिकोण Integral Approaches

कुछ विचारको का मानना है की Administration का अर्थ उन सभी क्रियाकलाप से है जिसका संचालन एक निश्चित क्षेत्र में एक निश्चित नीतियों के क्रियान्वयन से होता है| इस प्रकार श्रमिक वर्ग, लिपिक वर्ग तथा अन्य जो इस संगठन से संबंधित है इन सभी कार्यों को मिलाकर Administration की संज्ञा दी जाती है| इस विचारधारा को प्रशासन का एकीकृत दृष्टिकोण Integral approaches कहते है|

एडमिनिस्ट्रेशन क्या है या प्रशासन किसे कहते है

प्रबंधात्मक दृष्टिकोण Managerial Approaches

Administration से संबंधित दुसरे दृष्टिकोण के अनुसार केवल वे ही क्रियाएँ Administration के क्षेत्र में आती है जिसका संबंध कार्यों के प्रबंधन से होता है| यह पुरे संगठन को सामूहिक संपन्नता, एकीकृत तथा नियंत्रण करने का कार्य करती है| ” प्रशासन” शब्द से ही यह स्पष्ट हो जाता है की इसका संबंध कार्य प्रबन्धन से है| अतः इसमें श्रमिक वर्ग लिपिक वर्ग के कार्यों को नहीं जोड़ा जाता| यह विचारधारा Administration के प्रबंधात्मक दृष्टिकोण को व्यक्त करता है|

इन दोनों विचारधाराओं में मौलिक अंतर यह है की जब Administration विशेष उद्देश्यों की पूर्ति के लिए किया जाने वाला कार्य है तो प्रबन्धक से लेकर कर्मचारी तक सभी इसके अंग मान लिए जाएंगें| यदि हम इसे प्रबंधात्मक दृष्टिकोण से देखें तो केवल बुद्धिमान उच्च कोटि के प्रशासक ही इसके अंग माने जाएंगें|

यह भी पढ़ें-

इस संबंध में हेनरी फेयोल का कहना है की Administration किसी न किसी मात्रा में प्रत्येक कर्मचारी के कार्यों का भाग होता है, चाहे वह कर्मचारी कितना भी साधारण क्यों न हो|

प्रिय विजिटर इस तरह आपने अवेयर माय इंडिया के हिंदी आर्टिकल ‘प्रशासन क्या है या प्रशासन किसे कहते है?’ को पढ़ा| अगर आपका इससे संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव हो तो कमेंट जरुर करें| आशा है की हमारे अन्य आर्टिकल की तरह ही आप इस आर्टिकल से भी लाभान्वित होंगे| हम इस बात को महसूस कर रहे है की आपके और बेहतर सुविधा के लिए इस साईट में कई सुधार किया जाना अपेक्षित है| आप सरीखे विजिटर के स्नेह और सुझाव से हम इस साईट में निरंतर सुधार कर रहे है और हमें विश्वास है की आगे के समयों में हम आपको और भी बेहतर सुविधा दे पाएंगें| लेकिन इस हेतु आपसे अनुरोध है की आप हमारे कांटेक्ट अस पेज के माध्यम से अपना विचार एवं अपना बहुमूल्य सुझाव हम तक जरुर प्रेषित करें| इस आर्टिकल को पढ़ने तथा अवेयर माय इंडिया साईट पर विजिट करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद|

यह भी पढ़ें-