10 क्यों वाला सवाल और विज्ञान का समाधान-2

Contents

पिछली पोस्ट की तरह ही हम फिर से दैनिक जीवन की 10 सामान्य घटनाओं को ’10 क्यों वाला सवाल और विज्ञान का समाधान’ में शेयर करेंगे| यह ’10 क्यों वाला सवाल और विज्ञान का समाधान’ की दूसरी यूनिट पोस्ट है| आइये आज के पोस्ट ’10 क्यों वाला सवाल और विज्ञान का समाधान-2′ के प्रश्न-उत्तर का क्रम प्रारम्भ करें|

10 क्यों वाला सवाल और विज्ञान का समाधान-2

1. ऊँचे भवन पर तड़ित परिचालक Lightning Conductor क्यों लगाये जाते है.


ऊँचे भवन के शिखर पर तड़ित परिचालक भवन को क्षतिग्रस्त होने से बचाने के लिए लगाया जाता है. ऊँचे होने के कारण ऐसे भवनों का तड़ित झंझा के सम्पर्क में आने की ज्यादा सम्भावना होती है. तड़ित झंझा के सम्पर्क में आने से भवन क्षतिग्रस्त होने के साथ ही जान माल का भी नुकसान हो सकता है.

लगाये गये तड़ित परिचालक के सिरे पर ऋण विद्युत रहती है. ये ऋण विद्युत् आविष्ट कण तड़ित झंझा के धन आविष्ट कणों के सम्पर्क में आते है और एक दुसरे को नष्ट कर देते है, इससे विद्युत विसर्जन electrical discharge नहीं हो पाता है. यदि विद्युत् विसर्जन होता भी है तो विद्युत् स्फुलिंग electrical spark के माध्यम से भूमि के नीचे चला जाता है और भवन क्षतिग्रस्त होने से बच जाता है. यही कारण है की ऊँचे भवन पर तड़ित परिचालक लगाये जाते है.

2. चमगादड़ अंधेरे में उड़ता है परन्तु किसी वस्तु से टकराता नहीं है. क्यों?


चमगादड़ उड़ते समय तेज ध्वनि उत्पन्न करती है. यह ध्वनि उच्च आवृति की होती है और पराश्रव्य ध्वनि तरंगें Ultrasonic waves उत्पन्न करती है. यह ध्वनि तरंगें राडार द्वारा प्रक्षेपित प्रकाश तरंग की भांति रास्ते की रुकावट से टकराने के बाद उद्गम स्त्रोत तक लौट आती है.

चमगादड़ अपनी अत्यंत संवेदनशील इन्द्रियों से संभावित रुकावट की दिशा और दुरी का अंदाजा लगा लेता है और अपनी उड़ान की दिशा बदल लेता है. यही कारण है की वह अंधेरे में उड़ने के बाबजूद किसी वस्तु से नहीं टकराता है.

3. डॉक्टरी थर्मामीटर उबलते जल में डूबाने पर टूट जाता है. क्यों?


डॉक्टरी थर्मामीटर एक साधारण फारेनहाइट थर्मामीटर होता है. इसके द्वारा 95 से 110 डिग्री फारेनहाइट का तापमान माना जाता है. इसके विपरीत उबलते पानी का तापमान 100 डिग्री सेल्सियस या 212 डिग्री फारेनहाईट होता है.

ऐसी स्थिति में डॉक्टरी थर्मामीटर को उबलते हुए जल में डालने पर पारा का प्रसार इतना अधिक होता है की इसका आयतन थर्मामीटर के भीतर दिए गये स्थान से अधिक हो जाता है. फलस्वरूप थर्मामीटर टूट जाता है.

4. ऊँचे पहाड़ी इलाकों में मैदानी इलाकों के अपेक्षा, भोजन बनाने में अधिक कठिनाई क्यों होती है?


जल जिस तापमान पर उबलने लगता है उसे जल का क्वथनांक कहते है. जल का क्वथनांक वायुमंडल के दबाब पर निर्भर करता है. उच्च दबाब पर जल का क्वथनांक अधिक और निम्न दबाब पर कम होता है.

पहाड़ी इलाकों में वायुमंडल का दबाब मैदानी इलाके की अपेक्षा कम होता है. फलस्वरूप जल 100 डिग्री ताप पर न खौलकर निम्न ताप 71 डिग्री सेल्सियस पर ही खौलने लगता है. यही कारण है की ऊँचे पहाड़ी इलाकों में मैदानी इलाकों के अपेक्षा, भोजन बनाने में अधिक कठिनाई होती है?

5. इंद्रधनुष वर्षा के बाद ही क्यों दिखाई पड़ता है?


इंद्रधनुष का निर्माण सूर्य की किरणों के परावर्तन, अपवर्तन और वर्ण विक्षेपण द्वारा होता है. परावर्तन, अपवर्तन और वर्ण विक्षेपण के लिए एक अनुकूल माध्यम का होना आवश्यक है. वर्षा की बुँदे इसी माध्यम का कार्य करती है.

दरअसल वर्षा की बुँदे प्रिज्म सा व्यवहार करती है. जब इस पर सूर्य का प्रकाश पड़ता है तो यह सूर्य प्रकाश के सात संघटक रंगों को स्पेक्ट्रम के रूप में बिखेर देता है. जिससे इन्द्रधनुष नजर आता है. अतएव इन्द्रधनुष के निर्माण के लिए माध्यम की तरह वर्षा की बूंदों का होना जरुरी है. यही कारण है की इन्द्रधनुष वर्षा के बाद ही दिखाई पड़ता है.

6. व्यक्ति चलती गाड़ी से उतरने पर गिर जाता है. क्यों?


जब कोई व्यक्ति चलती गाड़ी से नीचे उतरता है तो उसके पैर भूमि पर पड़ने के साथ विरामावस्था में आ जाते है परन्तु उस व्यक्ति का शरीर अभी भी गतिमान रहता है. इस असंतुलन के कारण व्यक्ति गिर जाता है.

अगर व्यक्ति गाड़ी से उतरने के साथ गाड़ी की दिशा में कुछ कदम चलें तो वह गिरने से बच सकता है. क्योंकि तब व्यक्ति के शरीर के साथ ही उसका पैर भी गति की अवस्था में रहेगा.

7. व्यक्ति मृत सागर में आसानी से क्यों तैर पाता है?


मृत सागर के जल में लवण पर्याप्त मात्रा में मौजूद होती है. इसके कारण असमुद्री जल की अपेक्षा इसके जल का घनत्व अधिक होता है. व्यक्ति अधिक घनत्व वाले जल में आसानी से तैर सकता है. क्योंकि अपने भार को संतुलित रखने के लिए असमुद्री जल की अपेक्षा, इस जल की अल्प मात्रा को विस्थापित करना होता है.

8. थर्मामीटर में पारा का उपयोग क्यों किया जाता है?


थर्मामीटर में पारा का उपयोग किया जाता है. पारा अपारदर्शी और चमकदार होने के कारण केशनली में आसानी से देखा जा सकता है. इसमें गर्मी एवं ठंडक के कारण समान प्रसार और संकुचन होता है.

पारा को गर्म करने के लिए अधिक ताप की आवश्यकता नहीं होती है. यह थर्मामीटर की भीतरी दीवार में नहीं सटता है. इन सब कारणों से थर्मामीटर में पारा का उपयोग किया जाता है.

9. पुरानी रजाई की अपेक्षा नयी रजाई अधिक गर्म होती है. क्यों?


पुरानी रजाई में रुई बैठ जाती है अर्थात यह आपस में चिपक जाती है. इससे हवा इन रुई के बीच में नहीं आ पाता. जबकि नयी धुनी हुई रजाई में रुई उठी रहती है अतः इसमें पुरानी रुई की अपेक्षा अधिक हवा बैठती है. हवा ताप का कुचालक होती है. फलस्वरूप यह ताप को नहीं निकलने देता. और पुरानी रजाई की अपेक्षा नयी रजाई अधिक गर्म होती है.

10. कमरा बंद रहने पर भी बाहर की आवाज क्यों सुनाई पड़ती है?


ध्वनि तरंग ठोस माध्यम में भी गमन कर सकती है. यही कारण है की कमरा बंद रहने पर भी बाहर की आवाज अंदर सुनाइ देती है.

Hey, आशा है की आप इन प्रश्न उत्तर से लाभान्वित हुए होंगें. अगर आप अपनी कुछ प्रतिक्रिया हमें देना चाहे तो नीचे कमेंट करें या कांटेक्ट अस के माध्यम से सम्पर्क करें. हम आगे भी 10 और ऐसे रोचक प्रश्न उत्तर के साथ ’10 क्यों वाला सवाल और विज्ञान का समाधान-3′ लेकर आएँगे. धन्यवाद.

यह भी पढ़ें-

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.