केन्द्रीय सतर्कता आयोग – Central Vigilance Commission

केन्द्रीय सतर्कता आयोग - Central Vigilance Commission

केन्द्रीय सतर्कता आयोग – Central Vigilance Commission एक शीर्ष सतर्कता संस्थान है. अर्थात यह भारत में भ्रष्टाचार नियंत्रण की एक सर्वोच्च संस्था है. इस पोस्ट में आप इस संस्था के बारे विभिन्न बातें जैसे की केन्द्रीय सतर्कता आयोग क्या है, स्थापना, प्रतीक चिह्न, संरचना, प्रमुख भूमिका एवं कार्य के बारे में विस्तार से जानेंगे. केन्द्रीय सतर्कता आयोग – Central Vigilance Commission यह शीर्षस्थ सतर्कता संस्थान के रूप में, किसी भी कार्यकारी प्राधिकारी के नियत्रण से…

चुनावी बॉन्ड से पहलें की तरह चुनाव में धन की लिपा-पोती नहीं होगी | जानिए क्या है चुनावी बॉन्ड

चुनावी बांड योजना

चुनावी बॉन्ड योजना Electoral Bonds Scheme का उद्देश्य राजनीतिक वित्तपोषण में पारदर्शिता लाना है| इसे 2017-18 के बजट में घोषित किया गया | हम इस पोस्ट में बात करेंगें की चुनावी बॉन्ड क्या है और इसे लाने की जरूरत क्यों आन पड़ी, इसके लागू होने के बाद क्या प्रभाव पड़ेगा अर्थात चुनावी चुनावी बॉन्ड योजना का लाभ क्या होगा? हम यह भी देखेंगें की इसकी सीमाएं या कमियां क्या होगी इसके बाद हम निष्कर्ष पर भी कुछ चर्चा करेंगें| चुनावी बॉन्ड…

क्या है लाभ का पद जिसे लेकर अक्सर होती है सियासी घमासान

लाभ का पद Office of Profit

कुछ समय पहले लाभ का पद Office of Profit Act का मुद्दा काफी चर्चा में आया, क्योंकि लाभ का पद धारण करने के कारण दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल सरकार के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया गया था| इससे पूर्व भी कई बार लाभ के पद धारण करने के कारण लोकसभा सदस्यों या राज्य विधानसभा के सदस्यों को राष्ट्रपति द्वारा सांसद या विधायक होने के लिए अयोग्य घोषित कर दिया जाता रहा है| हम इस पोस्ट में…

नवीन लोक प्रशासन की समझ

नवीन लोक प्रशासन की समझ

अपना नारा ‘नैतिकता एवं सामाजिक उपयोगिता’ के साथ नवीन लोक प्रशासन या New public administration 70 के दशक में सामने आया| इसने प्रशासन के क्षेत्र में नवीन क्रांति को जन्म दिया| हम इस छोटे से पोस्ट में समझेंगें की नवीन लोक प्रशासन क्या है? इसके उदय के क्या कारण था? इसकी मुख्य विशेषताएँ क्या है? अगर आप इसके बारे में जानकारी चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा पढ़ें| यह पोस्ट छोटा होते हुए भी अपने…

एडमिनिस्ट्रेशन क्या है या प्रशासन किसे कहते है?

एडमिनिस्ट्रेशन क्या है या प्रशासन किसे कहते है

एडमिनिस्ट्रेशन (administration) मूलतः एड (ad) उपसर्ग तथा लैटिन धातु मिनिस्टर (minister) से मिलकर बना है जबकि प्रशासन संस्कृत के ‘प्र’ उपसर्ग ‘शास्’ धातु से बना है| इसका अर्थ है प्रकृष्ट या उत्कृष्ट रूप से शासन करना| वैदिक युग में जब किसी बड़े पैमाने पर राज्य में यज्ञ का आयोजन किया जाता था तो उसके कार्य के संचालन हेतु प्रशासक की आवश्यकता होती थी| प्रशासक का कार्य पुरोहित करते थे| ये पुरोहित प्रशास्ता कहलाये| यही प्रशस्ता…

लोक प्रशासन क्या है?

लोक प्रशासन क्या है?

लोक प्रशासन या Public Administration दो शब्दों से मिलकर बना होता है- लोक और प्रशासन| यह भी प्रशासन के ही विशाल क्षेत्र का एक विशिष्ट अंग है जिसका संबंध लोक हित के कार्यों तथा नीतियों के क्रियान्वयन से है| समय के साथ प्रशासक वर्ग का उत्तरदायित्व बढ़ा है इसी अनुसार इस विषय में लोगों की अभिरुचि बढ़ी है| वर्तमान में पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन इतना महत्वपूर्ण विषय बन गया है की बौद्धिक वर्ग को अधिक से अधिक इस…

भारतीय राष्ट्रपति किस स्थिति में इमरजेंसी की घोषणा करता है

राष्ट्रपति की आपातकालीन शक्तियां व कार्य

भारत में राष्ट्रपति राज्य के औपचारिक प्रधान होते है| उन्हें औपचारिक रूप से अनेक कार्यकारी, विधायी, वित्तीय, न्यायिक आदि शक्तियां प्राप्त होती है| इन शक्तियों में राष्ट्रपति की आपातकालीन शक्तियां यानि इमरजेंसी पॉवर प्रमुख है| राष्ट्रपति इन इमरजेंसी पॉवर का प्रयोग प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली मंत्रीमंडल के सलाह पर करता है|  हम इस पोस्ट में चर्चा करेंगें की राष्ट्रपति को कौन-कौन से आपातकालीन शक्तियां प्राप्त है और वह किस स्थिति में इमरजेंसी की घोषणा करता है? हम…