वाताग्र की उत्पत्ति कैसे होती है, इसके प्रकार एवं मौसमी प्रभावों की हिंदी में चर्चा

वाताग्र के प्रकार

वाताग्र पृथ्वी तल पर निम्न वायुदाब के क्षेत्र में विकसित एक विशिष्ट वायुमंडलीय परिघटना है. इसकी उत्पत्ति दो भिन्न प्रकृति की वायुराशियों के विपरीत दिशा से आकर अभिशरण करने से होती है. इस आर्टिकल में आप वाताग्र के बारे में विभिन्न बातों को विस्तार पूर्वक पढेंगें. जैसे की वाताग्र Front क्या है. वाताग्र की उत्पत्ति कैसे होती है. वाताग्र के प्रकार – स्थायी, संरोधित, शीत व उष्ण वाताग्र क्या है तथा इसके मौसमी प्रभाव क्या होते…

जेट स्ट्रीम या जेट वायुधारा क्या है, यह कहाँ चलती है?

जेट स्ट्रीम - जेट वायुधारा

जेट स्ट्रीम पृथ्वी की निचली वायुमंडल में तीव्र वेग से प्रवाहित होती है. आप इस पोस्ट में इससे संबंधित विभिन्न बातें जैसे की जेट प्रवाह क्या होता है या जेट वायुधारा क्या है, यह कहां चलती है, विभिन्न जेट धाराएं – उष्णकटिबंधीय पूर्वी जेट स्ट्रीम, ध्रुवीय जेट धारा, उपोष्ण पछुआ जेट प्रवाह क्या है, इसके प्रभाव क्या है, के बारे मे विस्तार पूर्वक पढेंगें. जेट स्ट्रीम डेफिनेशन इन हिंदी. जेट स्ट्रीम इन इंडिया. जेट स्ट्रीम या जेट वायुधारा क्या…

पृथ्वी की वायुदाब पेटियां

पृथ्वी की वायुदाब पेटियां

सूर्य एवं पृथ्वी की सापेक्षिक स्थिति में परिवर्तन, घुर्णन और क्षोभमंडलीय दशाओं के अनुरूप पृथ्वी की वायुदाब पेटियां विकसित होती है. वायुदाब से संबंधित बेसिक बातों की चर्चा हम पूर्व में कर चुके है.आप इस पोस्ट में वायुदाब के कटिबंधीय स्वरूप या अक्षांसीय स्वरूप – विषुवतीय निम्न वायुदाब पेटी, ध्रुवीय उच्च वायुदाब पेटी, उपोष्ण उच्च वायुदाब पेटी और उपध्रुवीय निम्न वायुदाब पेटी के बारे में पढेंगें. पृथ्वी की वायुदाब पेटियां पृथ्वी तल पर वायुदाब का विकास अक्षांसो के समानांतर कटिबंधीय रूप…

विश्व की सभी स्थानीय पवनों की हिंदी में पूरी जानकारी

विश्व की स्थानीय पवनें

विश्व की स्थानीय पवनें वायुमंडल की तृतीय परिसंचरण प्रणाली है, छोटे क्षेत्र में प्रभावी होने के बाबजूद क्षेत्र विशेष के मौसम और जलवायु के ये प्रमुख निर्धारक तत्व होते है. हमनें पवनों के प्रकार पोस्ट, जिसमें हमने सभी प्रकार की पवनों के बारे में विस्तृत चर्चा किया है, में भी कहा था की स्थानीय पवनें वायुमंडल की विशिष्ट वायुमंडलीय परिसंचरण प्रणाली है. हम इस पोस्ट में विश्व की स्थानीय पवनें के बारे में विस्तृत चर्चा करेंगें. हम…

चिनूक से क्या अभिप्राय है, इसकी उत्पत्ति की प्रक्रिया और प्रभावों को समझाएं

चिनूक से क्या अभिप्राय है

चिनूक एक प्रमुख गर्म स्थानीय पवन है. विश्व की स्थानीय पवनें पोस्ट में हमने सभी प्रकार की स्थानीय पवनों के बारे में विस्तार पुर्वक चर्चा की है. इस पोस्ट में हम विशिष्ट रूप से चिनूक के बारे में बात करने जा रहे है. हम देखेंगें की चिनूक से क्या अभिप्राय है. इसके अलावे हम चिनूक की उत्पत्ति की प्रक्रिया और प्रभावों को भी समझने का प्रयास करेंगें. chinook se kya abhipraya hai hindi me. चिनूक से…

दैनिक पवनें – समुद्री एवं स्थलीय समीर तथा घाटी एवं पर्वतीय समीर की हिंदी में जानकारी

दैनिक पवनें के प्रकार

पवनें (wind), वायु (air) का गतिमान स्वरूप है जो सामान्यतः उच्च वायुदाब और निम्न वायुदाब की ओर चलती है. हम पवनों के प्रकार पोस्ट में सभी पवनों के प्रकार के बारे में हिंदी में विस्तृत चर्चा कर चुके है. इस पोस्ट में हम दैनिक पवनें के बारे में विस्तार पूर्वक बात करेंगें. हम यहाँ दैनिक पवनों के प्रकार – समुद्री एवं स्थलीय समीर तथा घाटी एवं पर्वतीय समीर को भी समझेंगें. आइये चर्चा की शुरुआत…

वायुमंडल की त्रिकोशिय परिसंचरण प्रणाली

त्रिकोशीय पवन संचार प्रणाली का विकास स्थायी पवनों से होता है. वायुमंडल की त्रिकोशिय परिसंचरण प्रणाली पुरे विश्व की जलवायु और मौसमी दशाओं को निर्धारित करती है. आप इस पोस्ट में वायुमंडल की त्रिकोशिय परिसंचरण प्रणाली तथा तीनों कोश – (क.) हेडली कोश या व्यापारिक पवन कोश  (ख.) पछुआ पवन कोश या फेरल कोश (ग.) ध्रुवीय पवन कोश के बारे में पढेंगे.Tricolor circulatory system of atmosphere वायुमंडल की त्रिकोशिय परिसंचरण प्रणाली से संबंधित इस पोस्ट को पढ़ने…